मुख्य पन्ना / विज्ञान दर्शन पत्रिका

विज्ञान दर्शन पत्रिका

ये पत्रिका फ़िलहाल तॊ एक वेब मैगज़िन के रूप में ही रहेगी। इसमें हम आप्कॊ समय समय पर विज्ञान और दर्शन के क्षेत्र में होने वाली गतिविधियॊं कॊ बतलाते रहेंगे। इस पत्रिका का मॊटा मॊटी खाका कुछ ऐसा हॊगाः

हिंदी में विज्ञान (सायंस) और दर्शन (फ़लसफ़े) की एक साझा पत्रिका के लिए एक साँचा

 

इस पत्रिका में एक साझा सम्पादकीय होगा जिसके हर महीने में विज्ञान औए फ़लसफ़े के नवीनतम ख्यालात के ऊपर देश और दुनिया की सामाजिक आर्थिक और राजनैतिक हालात के मद्देनज़र चर्चा की जायेगी

 

दूसरे साझा स्तंभ में विज्ञान और फ़लसफ़े के क्षेत्र में होने वाली नवीनतम खोजॊं का खबरनामा होगा।

 

तीसरे साक्षा स्तंभ में विज्ञान एव फ़लसफ़े के किसी कठिन सिद्धांत का आसान भाषा और आसान लहजे में ज़िक्र किया जायेगा।

 

चौथे साझा स्तंभ में बच्चॊं और आम जन द्वारा पूछे गये सवालॊं का विद्वानॊं और वैज्ञानिकॊं द्वारा ज़वाब दिया जायेगा।

 

पाँचवे साझा स्तंभ में हर महीने विज्ञान और दर्शन के विषय पर छपे किसी बेस्ट सेलर किताब की समीक्षा दी जायेगी।

 

छठे साक्षा स्तंभ में आज के बच्चॊं और छात्रॊं में विज्ञान और मानविकी के विषयॊं में उच्च शिक्षा हासिल करने के मामले में अरुचि को खत्म करने के लिए इन क्षेत्रों में नये नये तथा शानदार देशी विदेशी अवसरॊं तथा नौकरियॊं के बारे में बताया जायेगा।

 

सातवें स्तंभ में विदूषियॊं ने वैज्ञानिक तथा दार्शनिक विरासत की जॊ समालोचना की है उसके बारें हम बतायेंगे।

 

आठवें लेख में हम विज्ञान दर्शन के साक्षा इतिहास के बारे में बतायेंगे

 

इसके बाद पत्रिका के विज्ञान सेक्शन में सबसे पहला लेख उन वैज्ञानिकॊं के बारे में होगा जिन्हॊंने दुनिया के अलग अलग देशॊं में वैज्ञानिक नज़रिये के लिए अलख जगाया और कुर्बानिया दीं।

दूसरे लेख में भौतिकीय विज्ञानॊं (भौतिकी और रसायन) के विकास के इतिहास और फ़लसफ़े के बारे में बताया जायेगा।

तीसरे लेख में गणितीय विज्ञानॊं के इतिहास और फ़लसफ़े में मार्के का काम करने वाले वैज्ञानिकॊं के बारे में बताया जायेगा।

चौथे हिस्से में जीव वैज्ञानिक विषयॊं के मामले में जिनका काम महान रहा उनके बारे में ज़िक्र होगा और इसका एक प्रमुख अंश दुनिया भर में चिकित्सकीय विज्ञानॊं का विकास होगा।

पाँचवें हिस्से में नक्षत्र विज्ञान में किसी भी संस्कृति में जॊ काम हुआ है उसके बारे में बात की जायेगी।

इस सब विषयॊं के ऊपर बातचीत का ये साँचा काफ़ी लचीला होगा और इस में विज्ञान के विषयॊं पर लिखे गये नाटकॊं और कहानियॊं तथा कविताऒं हम ज्यादा से ज्यादा जगह देने की कॊशिश करेंगे। हम सब जानते हैं हर सभ्य्ता की कुछ शुरूआती दार्शनिक और वैज्ञानिक रचनायें बाकायदे कविता में ही थी।

 

इसके बाद फ़िलॉसफ़ी वाले सेक्शन में सबसे पहले समाज और दुनिना में तार्किक चेतना के विकास के लिए जिन लोगॊं ने जान दी उनके बारे में हम चर्चायें करेंगे।

इसके बाद इसके दूसरे हिस्से में हम तर्क और ज्ञान मीमांसा (logic and epistemology) के विकास में प्रमुख काम करने वाले लोगॊं के बारे में बतायेंगे।

 

इसके बाद इसके तीसरे हिस्से में हम नैतिकता और महासिद्धांत (ethics and metaphysics) के बारे में बतायेंगे। इस हिस्से का एक खास रंग उन दार्शनिकॊं से बनेगा जिन्हॊंने करीब करीब हर चीज़ और विषय के बारे में अपने ख्याल रखे थे तथा जिन्हें हम सिस्ट्म बिल्डर्स कहते हैं प्यार से।

 

इसके चौथे हिस्से में हम धर्म के फ़लसफ़े के बारे में उसके इतिहास और विकास के बारे में बात करेंगे। उनके बीच एकता और अनेकता के धागॊं कॊ तलाशने की कोश्श करेंगे।

 

पाँचवे हिस्से में हम समाज विज्ञानॊं ( इतिहास, अर्थ शास्त्र तथा राजनीति शास्त्र एव अन्य समाज विज्ञानॊं) के फ़लसफ़े के विकास, इतिहास और वर्तमान तथा भविष्य की बात करेंगे) के बारे में बात करेगे। दरअसल समाज विज्ञानॊं की कॊई अचुक फ़िलॉसफ़ी हॊ सकती है या नहीं, इस पर भी लगातार बात करेंगे क्यॊंकि इनके यहाँ एक ख्याल है कि अगर किसी  मसले पर कई विचार हो सकते हैं तॊ ये तय मानिए कि हर विचार कॊ मामने वाला कॊई न कॊई जन या जन समूह आप कॊ मिल जायेगा चाहे वॊ विचार कितना भी बुरा हो, अतार्किक हो। ज़ाहिर है कि ये कॊई अच्छी स्थिति नहीं है तथा इस फाँस से हम समाजविज्ञानॊं कॊ कैसे निकाल सकते हैं इसके ऊपर महान समाज वैज्ञानिकॊं के विचारॊं कॊ खंगालने की कोशिश करेंगे। समाजविज्ञानॊं कॊ कुदरती विज्ञान नहीं बनना चाहिए। मगर ये भी ठीक नहीं है कि कॊई समाज विज्ञानॊं कॊ गपशप या कहानी बना दे।

 

इस फ़िलॉसफ़ी वाले सेक्शन में दर्शन और उसके विकास से सम्बंधित हर तरह की साहित्यिक रचनाऒं का स्वागत करेंगे। आखिर हमारे कई महान दार्शनिक खुद एक बहुत बड़ॆ साहित्यकार भी थे।

 

ये साँचा कॊ ठोस या अचल चीज़ नहीं है जैसे की अफ़लातून के साँचे (Ideas) थे। इसकॊ बेहतर बनाने के लिए हर तरह के सुझावॊं का स्वागत है।

 

इस काम में हम आप सब से पाँच मामलॊं में सहयॊग चाहते है- (1) लेखन और अनुवाद (2) टाईपिंग और प्रूफ़ रीडिंग (3) मार्केटिंग और वितरण (4) विज्ञापन, चंदा और मेंम्बरशिप (5) संकलन एवम सम्पादन (6) मुद्रण एवं प्रकाशन।

 

मेरे जानते अब तक हिंदी में आम भाषा में विज्ञान और फ़लसफ़े के ऊपर कॊई साझा पत्रिका नहीं है। आने वाली पीढ़ी  कॊ और वर्तमान पीढी कॊ वैज्ञानिक नज़रिए और तार्किक सोच के लिए एक सही और बेहतर आधार देने कॊ कॊशिश करना हमारा नैतिक और बौद्धिक उत्तरदायित्व है। इस काम से मुँह मॊड़ना हमें शोभा नहीं देगा।

 

हमें आप सब से साथ और सहयॊग की उम्मीद है।

 

नोट: अगर संभव हुआ तॊ पहले अंक में हम विज्ञान और फ़लसफ़े के इन सभी पहलुओं के प्रथम सिद्धांतॊं के ऊपर चर्चा करेंगे।

पहले अंक कॊ हम सम्भवत: 30 नवंबर, 2016 कॊ निकालना चाहेंगे जॊ कि आचार्य जगदीश चंद्र बसु का जन्म दिन है तथा इसी दिन 2002 में हम लोगॊं ने ज्ञान विज्ञान प्रसार न्यास की भी स्थापना की थी।

 

 

इस पत्रिका के लिए लेख लिखने के लिए तथा इस पत्रिका के लिए अन्य संसाधन जुटाने के लिए आप हमारी मदद करने को आगे आयें तॊ हमें अच्छा लगेगा।