मुख्य पन्ना / लेख / धर्म या मज़हब के बारे में मार्क्स के ख्याल तथा आज के ज़माने में उनकी ज़रूरत

धर्म या मज़हब के बारे में मार्क्स के ख्याल तथा आज के ज़माने में उनकी ज़रूरत

धर्म की सतत आलोचना करते रहना ही आलॊचना का सतत धर्म है। दुख की बात है कि भारत में आज धर्म की आलोचना नहीं हॊ रही है। आज हर तरह के अंध विश्वास जन जीवन में फैलते जा रहे हैं। मगर कॊई इनके खिलाफ़ कुछ भी नहीं कर रहा है। वास्तव में मार्क्स धर्म की समालोचना कॊ फ़लसफ़े का सबसे ज़रूरी काम मानते थे। वे इसे क्रांति कर्म का पहला कदम मानते थे। हेगेल की किताब ‘ फ़िलॉसफ़ी ऑफ़ राईट ‘ की भूमिका के तौर पर उन्हॊंने जॊ भी लिखा था वॊ धर्म के बारे में उनके सिद्धांतॊं का एक तरह से निचॊड़ है। मैं सबसे पहले मार्क्स के धर्मसंबंधी इस लेख के विचारॊं का अनुवाद रखना चाहता हूँ: ‘जैसे ही हम स्वर्ग और परमात्मा तथा धर्मवेदी के सिद्धांतॊं का खंडन करते हैं वैसे ही इंसान के नापाक वज़ूद की जॊ भयंकर ग़लती ह्या वह नष्ट हॊने कॊ आ जाती है। हमारे ऐसा करते ही वही इंसान जॊ अब तक धार्मिक स्वर्ग की अति काल्पनिक दुनिया में जी रहा था तथा जिसमें वॊ अपने लिए किसी अतिमानव की तलाश कर रहा था; वह अब किसी भी तरह से सिर्फ़ अपने आप के ख्याल या अपनी खुदी के ख्याल से संतुष्ट नहीं होगा क्यॊंकि अब तक उसके मन में अपने बारे में कॊई ख्याल ही नहीं था, वॊ अब तक अपने लिए भी एक ना मौज़ूद इंसान था। इस लिए जब एक बार वॊ धर्म तथा स्वर्ग के ज़ाल से बाहर आ जायेगा तॊ अपना सही और असली वज़ूद खोजेगा।’
”किसी भी धार्मिक या ग़ैर धार्मिक समालॊचना की बुनियाद ये हैः इंसान ने धर्म कॊ बनाया है। मज़हब ने मानव कॊ नहीं बनाया है।। धर्म वास्तव में उस इंसान की निज चेतना है या खुदी है तथा निज – अभिमान या खुद्दारी है जिसने अब तक खुद कॊ पाया ही नहीं है या पाने के बाद खुद को फ़िर से खॊ दिया है।’
दुनिया की धार्मिक परंपराऒं में ये बात कही गई है कि अगर भगवान कॊ पाना है तॊ खुद कॊ मिटा दो। अगर जीवन में सच्चिदानंद कॊ पाना है तॊ अपने को खत्म कर दो। खुदा कॊ पाना है तॊ खुदी कॊ मिटा दॊ।
इस मार्क्स यहाँ कह रहे हैं कि अगर इस जीवन में सुख पाना है तॊ खुद कॊ पा लो और ये तब तक नहीं होगा जब तक कि तुम खुदा कॊ खत्म न कर दो।
इसके आगे उसी लेख में मार्क्स फ़िर कहते हैं:  मगर इंसान कॊई इस संसार के बाहर बैठा हुआ कॊई परम जीव नहीं है। वॊ इसी संसार का आदमी है जो कि किसी राजसत्ता के अधीन किसी समाज में रहता है। यही राजसत्ता तथा समाज मिल कर धर्म को बनाते हैं। ये धर्म इस संसार की ही एक ऊलटी चेतना है। ऐसा इस लिए है कि ये संसार ही एक उलटा संसार है। धर्म इसी उलटॆ संसार का महासिसिद्धांत है, इसी संसार की एक सर्वज्ञ किताब है। इसी संसार का एक लोकप्रिय तर्क है। इसी संसार का आध्यात्मिक सम्मान संस्थान है। इसी संसार का उत्साह है। इसी संसार का नैतिक औचित्य है। इसी संसार का पवित्र पूरक है। इसी संसार में सतॊष करने का तथा इसी संसार जीने का न्याय-निर्णय है। यह वास्तव में इंसान के सत्त का अतिकाल्पनिक वज़ूर है क्यॊं कि वास्तव में मानव के सत्त अब तक सच्चे रूप में कहीं मौज़ूद ही नहीं रहा। इस लिए धर्म के खिलाफ़ संघर्ष वास्तव में उस संसार के खिलाफ़ संघर्ष है जिससे धर्म नाम की गंध आती है।’
यहाँ पर अपने कबीर भी बरबस याद आते हैः साधॊ, देख जगत बौराना, साँच कहूँ तॊ मारन धावे, झूठे जग पतियाना।’
एक बार फ़िर से मार्क्स के पास चलते हैं: ‘धार्मिक क्लेश या पीड़ा दरअसल एक ही साथ वास्तविक पीड़ा की कॊ सहना तॊ है ही साथ में ये वास्तविक पीड़ा से एक विद्रोह भी है। धर्म वास्तव में दलित प्राणी की आह भरी पुकार है। एक बेदिल और बेरहम संसार का दिल है तथा बेजान हालात की जान है। ये जनता के लिए अफ़ीम है।’
यहाँ अफ़ीम कॊ लेकर बड़ी बात उठती है और ये कहा जाता है कि मात्र्क्स ने अफ़ीम शब्द का इस्तेमाल धर्म की निंदा करने के लिए किया था। दर असल एक अन्य सिलसिले में जिस तरह पूँजीवाद के नाश के लिए बात करने से पहले जिस तरह से मार्क्स पूंजीवाद के चरित्र का बखूबी बखान करते हैं और उस सिलसिले में सारे सामंती ढ़ाँचॊ कॊ तॊड़ने के पूंजीवाद की तारीफ़ भी करते हैं। उसी तरह से यहाँ ध्रम कॊ खत्म करने की बात करने के पहले मार्क्स धर्म की एक उपयोगिता बता रहे हैं। उन्नीसवीं सदी तक युरॊप में अगर किसी कॊ कही भी कॊई लाईलाज़ दर्द होता था तॊ उससे आराम देने के लिए हकीम लोग उसे अफ़ीम देते थे।  मार्क्स ने यहाँ पर धर्म के लिए अफ़ीम शब्द का इस्तेमाल इसी रूप में किया था। मार्क्स कह रहे हैं कि इस दुनिया में इतना दुख दर्द है कि धर्म के नशे के बिना इस दर्द कॊ सह पाना मुश्किल है। धर्म बेजान हालात की जान है इसे समझने के लिए विद्यापति का वॊ गीत याद करेः दुख ही जनम ले लीं , दुख ही गंवअलीं की सुख सपनॊ नहीं भील हॊ हो भोलानाथ नाथ, कखन हरब दुख मॊर हे भॊला नाथ।’ मज़ा ये है कि होश सम्भालने के बाद से मरते दम तक जनता इसे गाती रहती है।मगर भोलानाथ दुख नहीं हरते हैं।
इसी लेख में मार्क्स आगे कहते हैं: सुख के छ्लावे के रूप में धर्म के नाश करने की मांग करने का मतलब है कि सच्चे सुख की माँग की जाये। अपने हालात के बारे मेंइस छलावे कॊ छॊड़ने के लिए लोगॊं कॊ पुकारने का मतलब है कि उनसे उन हालात कॊ छॊड़ने के लिए कहा जाये जिनमें ऐसे छलावॊं की ज़रूरत हॊती है।
इसलिए धर्म की समालॊचना का मतलब ये है कि भ्रूण रूप से आँसुऒं की उस घाटी की निंदा की जाये जिसका की प्रकाशमान मुकुट है धर्म।’
इस समालोचना या निंदा ने इस ज़म्ज़ीर में उग आये काल्पनिक फूलों कॊ इस लिए नहीं चुना है कि अब इंसान इस ज़ंज़ीर कॊ बिना किसी कल्पना या सतॊष कॊ ढॊता रहे। इस ने इन काल्पनिक फूलॊं की ओर इसलिए इशारा किया है कि इंसान अब इस ज़ंज़ीर कॊ तॊड़ कर उतार फ़ेंकेगा तथा सजीव और सच्चे फूल चुनेगा। धर्म की आलोचना से इंसान इंसान के चारॊं तरफ़ का धार्मिक भुलावा तथा छलावा नष्ट हॊ जाता है तथा इसके बाद वह खुद सोचने लगता है और खुद अपने मन से अपने काम करने लगता है तथा  अपने चारॊं तरफ़ के संसार के वज़ूद कॊ खुद बनाता है एक ऐसे इम्सान की तरह जिसने अपने भ्र्म और भुलावे  कॊ छॊड़ दिया है तथा अपनी खुदी कॊ अपने अहसास कॊ पा लिया है। धर्म एक नकली सूरज की तरह किसी इंसान के चार्चारॊं तरफ़ त्यभी तक घूमता है जब तक कि इंसान खुद अपने आप के चारॊं तरफ़ नहीं घूमने लगता है।’
ज़ाहिर है कि ऐसे में हमारे लिए सबसे पहले ये ज़रुरी है कि हम पहले खुद कॊ इस भुलावे और छलावे से पुरी तरह निकालें और उसके बाद दूसरॊं कॊ भी इसके बाहर निकलने में मदद करे। एक नये वज़ूद का निर्माण तभी हॊ सकेगा।
मार्क्स यहीं पर नहीं रूकते हैं धर्म की आलोचना कॊ ज़रूरी बताते हुए इसी लेख में वे यह भी कहते हैः इसलिए इतिहास का ये काम है कि एक जब जब ये परलोक का सच खत्म हॊ जाये, ग़ायब हॊ जाये, तॊ उसकी जगह पर इस संसार के सच कॊ स्थापित किया जाये। फ़िलॉसफ़ी कॊ ये काम ज़ल्दी से ज़ल्दी करना चाहिए। यही काम फ़िलॉसफ़ी के लिए इतिहास की सेवा में हो सकता है। एक बार जब इंसान कॊ खुद से ही अजनबी बना देने वाले पावन और पाक रूपॊं से नकाब हट जाये तो फ़िर फ़िलॉसफ़ी का ये काम होगा कि वो मानव को अपने आप से ग़ैर बना देने वाले सभी अपावन और नापाक रूपॊं पर से भी मुखौटा हटा दे।
इस तरह से हम देखते हैं कि स्वर्ग की आलोचना असल में धरती (के हालात) की आलोचना है तथा धर्म की समालॊचना वास्तव में कानून या विधिविधान की आलोचना हाय तथा देव धर्म शास्त्र की आलोचना वास्तव में राजनीति की आलोचना है।यहाँ आप सब कॊ बचपन से अब तक हर मौके पर सुनी जाने वाली कहावत की याद आ गई होगी कि सब विधि का विधान है या कि सब खुदा की मर्ज़ी है या फ़िर ये कि गॉड्स विल बी डन। इसी तरह तुलसी दास कि वो चौपाई भी आप ने सुनी हॊगी:
सुनहु भरत भावी प्रबल विलपि कहै मुनिनाथ,
हानिलाभ, जीवन मरण, जस अपजस विधि हाथ।
मार्क्स की बात किस कदर सही है इसका अंदाज़ा आप इसी से लगा सकते हैं कि ऐसी कहावतें हर संस्कृति में है। किसी ने अबतक ये तक पूछने की कॊशिश नहीं की कि जब सबकुछ भगवान के ही हाथ में है तॊ फ़िर इंसान के हाथ में क्या है?
ज़ाहिर बात है कि विधि की आलोचना किए बिना आप विधान की आलोचना नहीं कर सकते हैं।
इस लेख के अंत में मार्क्स कहते हैः रैडिकल या क्रांतिकारी हॊने का मतलब जड़ तक जाना है। मगर इंसान की हालात के मामले में जड़ खुद इंसान है। इस लिए ये ज़रुरी है कि इंसान की बदहाली की जड़ यानी धर्म कॊ जड़ से खत्म कर दिया जाये।धर्म की आलॊचना आखिर कार हमें इस सिद्धांत तक लाती है कि इंसानॊं के संसार में इसान ही सबसे ऊपर है। इसलिए वैसी हर चीज़ तथा वैसे हर संबंध कॊ खत्म करना हॊगा जो इंसान कॊ पतित बनाती है, लाचार बनाती है, उसे ग़ुलाम बनाती है या कि उसे अनदेखा करती है तहा घृणित बनाती है।’
सो ये ज़ाहिर है कि हर तरह से धर्म की आलोचना करना हम सब का काम है। ऐतिहासिक रूप से देखें तो हिंदी क्षेत्र में इस काम कॊ राहुल सांकृत्यायन तथा भगवत शरण उपाध्याय तथा रांगेय राघव के बाद किसी ने भी लोकप्रिय भाषा में इस काम कॊ  नहीं किया है। ऐसे में क्या गज़ब आज पूरी गॊबर पट्टी सांप्रदायिकता तथा अध विश्वास की चपेट में है।
जबकि मार्क्स सारी ज़िंदगी धर्म के बारे में कुछ न कुछ लिखते रहे, कहते रहे।
अपने छात्र जीवन में ही एक लेख प्रतियोगिता में हिस्सा लेने के लिए खिखे गये एक लेख में मार्क्स कहते हैं: इंसान के दिव्यता ने एक महान मकसद दिया है। वॊ मकसद है अपनी और मानव जाति की तरक्की के लिए काम करना। मगर उस दिव्य शक्ति ने ये इंसाणॊं पर छॊड़ दिया है कि वॊ किस तरह से और किन साधनॊं से अपने इस मकसद कॊ हासिल करे। ये भी उसी के ऊपर छॊड़ दिया है उस दिव्य शक्ति ने कि इस मकसद कॊ हासिल करने के लिए इंसान समाज में अपने लिए कौन सा रूतबा या दर्ज़ा चुने जॊ कि उसके मकसद के सबसे ज्यादा समुचित है तथा समाज में किस हैसियत से वॊ खुद के और मानवता के उत्थान के लिए सबस अच्छा काम कर सकता है।’
एक स्कूली छात्र हॊते हुए भी मार्क्स यहा इंसान की अपनी इच्छा की आज़ादी का सिद्धांत्त यहाँ दे ही देते हैं।  आप कॊ पता ही होगा कि मार्क्स ने अपनी डॉक्टरी की थीसिस एपिक्युरस नाम के एक नास्तिक दार्शनिक पर लिखा था।
इस थीसिस की भूमिका में मार्क्स प्रोमेथियस कॊ याद करते हैं तथा कहते हैं कि प्रेमेथियस फ़िलॉसफ़ी के इतिहास में सबसे बड़ॆ संत हैं तथा सबसे बड़ॆ शहीद भी। प्रोमेथियस ग्रीक पुराण कथाऒं के ऐसे नायक हैं जिन्हॊंने देवताऒं की खिलाफ़त कर के भी इंसान कॊ आग जलान सिखाया था तथा और भी कई कलाऒं कॊ सिखाया था ताकि मानवॊं का जीवन कुछ आसान हो जाये। मगर देवराज द्यौस पितर कॊ ये मंज़ूर नहीं था सो उसने प्रोमेथियस कॊ बांध कर युराल पर्वत पर डाल दिया था।
इसी में मार्क्स फ़िलॉसफ़ी के सबसे बड़ॆ और ज़रूरी काम की निशानदेहि करते हुए कहते हैं: जब तक इस विश्व विजयी तथा परम स्वतंत्र दिल में खून की एक बूद भी बची रहेगी तब तक फ़िलॉसफ़ी कभी भी अपने आलोचकॊं का ज़वाब एपिक्युरस के इन शब्दॊं में देने से नहीं चुकेगीः भीड़ द्वारा पूजे जाने वाले देवॊं कॊ नकारने इंसान नहीं, बल्कि भीड़ द्वारा पूजित देवॊं के आगे सिर को झुकाने वाला इंसान; अपावन और अपवित्र है।”
एक और दूसरा सूत्र वाक्य भी फ़िलॉसफ़ी के लिए मार्क्स लगे हाथ दे देते हैं:
फ़िलॉसफ़ी कभी भी अपने दिल की इस बात को नहीं छिपाती है कि उसने प्रोमेथियस के इस इकरारनामे कॊ अपने दिल से लगा रखा हैःसीधे सपाट शब्दॊं में मैं देवॊं के इस दस्ते से नफ़रत करता हूँ।’
इसी में मार्क्स आगे कहते हैं कि ये वाक्य फ़िलॉसफ़ी का घॊषणा पत्र है, फ़िलासफ़ी का अपना इकरार नामा है। ये इसका अपना कहना है कि ये हर तरह स्वर्गिक और पार्थिव यानि आसमानी और ज़मीनी देवॊं कॊ नहीं मानती है तथा इंसान की अपनी आत्म चेतना कॊ ही सबसे दिव्य और भव्य मानती है।’
अब चूँकि इन्हीं वज़हॊं से फ़िलॉसफ़ी कॊ जनता के बीच वो जगह या सम्मान नहीं मिल पाता है और बहुत सारे लोगॊं कॊ इस पर बहुत भलभली छुटटी है कि फ़िलॉसफ़ी के साथ अगर ऐसा हो रहा है तॊ अच्छा ही है। मार्क्स कहते हैं कि आय्से लोगॊं के लिए भी एक बार फ़िर से प्रोमेथियस ही काम आते हैं। तथा फ़िलॉसफ़ी लाल बुझक्कड़ॊं कॊ प्रोमेथियस के हि शब्दॊं में कहती है : एक बात बात तय जानॊ, मैं अपनी इस दुभार्ग्य पूर्ण हालत के बदले, तेरे देव राज द्यौस पितर की ग़ुलामी कतई नहीं मंज़ूर करूगा। मेरे लिए इस चट्टान का नौकर होना ज्यादा अच्छा है, बज़ाय इसके कि मैं तेरे पिता द्यौस पितर का विश्वसनीय बालक बनूँ।’
इसके बाद एक अन्य लेख में मार्क्स परमात्मा या भगवान के अस्तित्व के बारे दिए जाने वाले तर्कॊं का खंडन करते हैं। इसमें सबसे पहले वे हेगेल के इस तर्क काह खंडन करते हैं कि चूँकि सृष्टि में दुर्घटनाये या अचानक होने वालि घटनाये नहीं होती हैं इसलिए कॊई अचल या अचूक चीज़ तॊ है और वॊ अटल चीज़ तॊ परमात्मा ही हो सकती है। इस में मार्क्स कहते हैं कि यहाँ हेगेल एक ऐसे वकील की तरह व्यवहार कर रहे हैं जॊ अपने मुवक्किल कॊ दॊषी सिद्ध होने से बचाने के चक्कर में खुद ही अपने मुद्दई कॊ मार डालता है। मार्क्स का कहना है कि यहा एक बार हेगेल फ़िर से उलटी बात कहते है। धर्म वाले तो अब तक लगातार यही कहते र्हे कि इस घटनाऒं और दुर्घटनाऒं से भरी दुनिया में सिर्फ़ भगवान ही एक गारंटी है।
इसके बाद एक और बात कह जाति है भगवानॊं के बारे में। लोग कहते हैं कि चूँकि मै इसके बारे में सच्चे तौर पर सोच सकता हूँ इसलिए ये भी सच्चा है। मार्कस यहा।म पर एक बार फ़िर से बड़ी मज़ेदार तरीके से खंडन करते है। वे कहते हैं कि इस हिसाब से तॊ ग्रीकॊं से लेकर यहुदियॊं तक के सारे भगवान सच हो जायेंगे। अल्लाह कॊ मानने से पहले अरब वाले जिन देवॊं कॊ मानते थे वे सब सच्चे हो जायेंगे। ईसाइ बनने से पहले युरॊप वाले जिन देवॊं को मानते थे वे सब भी सच्चे हॊ जायेंगे। इस लिए इस मामले में कांट महॊदय का तर्क थॊथा है। इस हिसाब से तॊ कॊई ये भी मान सकता है कि उसके पास चाँदी के सौ सिक्के हैं। अब अगर किसी के भी मनमर्ज़ी तथा निजी मगर वास्तविक सोच कॊ सही मानना हॊ तो फ़िर उस आदमि के लिए ये सिक्के उतने हि सच्चे हो जायेंगे जितने कि  वास्तविक सिक्के होते। इसके बाद वॊ इन्हें सच मान के उसी हिसाब से कर्ज़ भी ले बैठेगा। उसकी कल्पना इस मामले में ठीक उसी तरह से काम करेगी जिस तरह से परमात्मा के मामले में मानवता की कल्पनाऒं ने काम किया है।  यही नहीं। यहाँ तॊ वास्तविक सिक्कॊं ने भी वही काम किया है जिसे कि काल्पनिक भगवान ने किया है। क्या वास्तविक सिक्कॊं का वास्तव में कॊई वास्तविक मूल्य हॊता है। ज़ाहित्र है कि नहीं होता है। उसका भी मूल्य दर असल कलप्ना में ही होता है। किसी आय्से देश में कागज़ के नॊट ले जा के देखिये लोग आप की कल्पना पर हँसेंगे। इसी तरह से अपने देवॊं के साथ दूसरे देश में जाइये जहाँ दूसरे देवॊं की पूजा होती है। वहाँ भी आप पर लोग इसी तरह से हँसेंगे। लोग कहेंगे कि आप अति कल्पना शीलता तथा अमूर्तन के शिकार हैं। जब एक देश के देवॊं का दूसरे देश में ये हाल हो जाता है तीऒ फ़िर सोचिए कि उनका उसदेश में क्या हाल हॊगा जहाँ विवेक तथा बुद्धि का राज है। वहाँ पहुँचने के बाद तॊ ये सारे देवी देवता लापता ही हो जायेंगे।
परमात्मा के अस्तितव के आरे में एक अन्य तर्क का भी मार्क्स खंडन करते हैं तथा ये कहते हैं कि कुछ लोगॊं के मुताबिक इंसान की आत्म चेतना ही परमात्मा के होने का सबसे बड़ा सबूत है परमात्मा के होने का। मगर मार्क्स कहते हैं कि ये तॊ सबसे बड़ा प्रमाण है परमात्म के न होने का। ये ब्ट परमात्मा से संबंधित साड़े ख्यालॊं को नकार जाती है। हॊना तॊ चाहिए था कि कोई कहे कि चूँकि इस दुनिया की रचना बहुत ही बुरे तरीके से हुई है इसलिए भगवान है क्यॊंकि तब वॊ इसे सुधारने की कोशिश कर सकता है।  ये भी कॊई कहे तॊ बात समझ में आ सकती है’ चूँकि दुनिया में विवेक का अभाव है, इस लिए परमात्मा है क्यॊंकि उसके पास बुद्धि ह्या और वॊ सबकॊ बुद्धि देने की कोशि कर रहा है।’ कॊई चाहे तॊ ये भी कहसकता है कि परमात्मा है क्यॊंकि इस दुनिया में कॊई चेतना ही नहीं है, सो परमात्मा इसे चेतअना देने की कॊशिश कर रहा है।’ मगर ये सब कहने का मतलब क्या है’ जिसे ये दुनिया बिना विवेक के दिखती है, वह खुद ही बिना विवेक के है और भगवान उसी के लिए लिए वज़ूद में है कि उसे विवेक दे सके।’या फ़िर इसका मतलब ये कहना हो जायेगा कि विवेक का न हॊ होना ही, परमात्मा के अस्तित्व है।’
इस तरह से मात्र 23 साल की उम्र में ही मार्क्स दुनिया के सामने इस सवाल कॊ दार्शनिक  भाषा में रख देते हैं कि या सर्वशक्तिमान हॊ सकता है या फ़िर सर्वज्ञ हॊ सकता है। दोनॊं होना उसके बस में नहीं है। अगर वॊ सर्वज्ञ है तॊ इस दुनिया में इतने अन्याय के बने रहने का बस एक ही कारण हॊ सकता है कि या तॊ वॊ भला नहीं है या फ़िर सर्व शक्तिमाण नहीं है। दूसरे अगर वॊ सर्व शक्तिमान है तॊ होगा, मगर सर्वज्ञ और भला नहीं है क्यॊंकि पता हॊने के बाद भी दुनिया कॊ इस बुरी हालत में कॊई सर्वज्ञ भगवान नहीं छॊड़ॆगा।
मार्क्स युरॊप के नव जागरण के आखिरी महादैत्य थे। उन्हॊंने धर्म कॊ खकम से करने की कॊशिश की थी और वे चाहते थे कि ऐसी कोशिश होती रहे। मगर इस मामले में मार्क्स ज्ञान और आलोचना समालोचना का ही सहारा लेना चाहते थे। इस मामले में ज़ोर ज़ब्वरदस्ती उन्हें पसंद नहीं थी। मार्क्स ने एक बार धर्म के विरूद्ध कुछ लिखने पर रोक लगा देने पर लिखा था कि ये खुद धर्म के ही सबसे बड़ॆ सिद्धांत के खिलाफ़ है। मार्क्स के अनुसार धर्म का सबसे बड़ा सिद्धांट ये है कि कि इंसान का अपना मन परम पावन तथा अलंघनीय है। मार्क्स का कहना है कि इस तरह से तॊ हम परमात्मा के बदले सेंसर बॊर्ड कॊ अपने कर्म्पं का मुंसिफ़ बना देते हैं। हमारे कर्मॊं का फ़ैसका अब परमात्मा के बदले सेंसर वाले करेंगे। इससे बड़ी धर्म विरूद्ध बात क्या हो सकती है।
मार्क्स पश्चिमी दार्शनिकॊं में से सबसे ज्यादा एपिक्युरस को पसंद करते थे। उनके बाद उनकी पसंद थे लुक्रेशियस। दोनॊं ही नास्तिक और धर्मविरोधी दार्शनिक थे।
पश्चिम में ईसाईयत कॊ एक मानवतावादी धर्म बताने की ज़बरदस्त परंपरा थी। मार्क्स ने इसके ऊपर भी अपनी कलम चलाई तथा ये कहा कि ईसाईयत में ऐसा कुछ भी नहीं है।
उन्हॊंने कहाः (1)सामाजिक ईसाईयत ने पुराने ज़माने में ग़ुलामी कॊ सही ठहराया, मध्य काल में कृषी दासता का समर्थन किया तथा आजकल जब भी ज़रूरत हॊ आधुनिक सर्वहारा के शोषण का समर्थन करते हैं बशर्ते कि सर्व हारा कॊ कुछ भीख मिल जाये।
ये मार्क्स की आलॊचनाऒं का ही नतीज़ा था कि पश्चिम में लिबरेशन थिओलॉज़ी जैसी चीज़ पैदा हुई थी ईसाईयत में।
(2) सामाजिक ईसाईयत के सिद्धांतॊं के मुताबिक एक शासक और एक शॊषित वर्ग का होना ज़रूरी है। तथा शॊषित के लिए उनके पास सिर्फ़ ये सदिच्छा है कि शासक लोगॊं के मन में शोषितॊं के प्रति कुछ न कुछ दया का भाव जगेगा।
(3) ईसाईयत के सामाजिक सिद्धांत में इस धरती पर हॊने वाले सारे अन्याय का मुआवज़ा ग़रीबॊं कॊ स्वर्ग में मिल जायेगा तथा इसी लिए हम इन सारे अन्याय कॊ धरती पर ज़ारी रहने की अनुमति दे सकते हैं।
(4) ईसाईयत के सामाजिन सिद्धांत में शॊषितॊं पर अनाचारियॊं के सारे अनाचार या तॊ प्रथम पाप या किसी अन्य पाप की सज़ा हैं या फ़िर परीक्षा है उन शॊषिताऒं की जिसे कि परमात्मा ने तय किया है ताकि उस आग में जल के वे पवित्र हि कर निउकल सकें और उनका उद्धार हो सके।
(5) ईसाईयत के सामाजिक सिद्धांत कायरता, आत्म घृणा,आत्म हीनता तथा ग़ुलामी और हीनता का उपदेश देते हैं।  वे सर्वहारा से नीच लोगॊं के सारे गुणॊं की उम्मीद करते हैं जबकि सर्वहारा कॊ या नीच वर्ग के लोगॊं कॊ रोटी से भी ज्यादा ज़रूरत साहस तथा आत्म विश्वास और गर्व के भाव तथा आज़ादी की है।
(6) ईसाईयत के सामाजिक सिद्धांत कपटी और चापलूस हैं तथा सर्वहारा आज क्रांतिकारी हो गया है।
धर्म कॊ इस अपूर्ण संसार का एक पूर्ण और मनमौज़ी प्रतिबिंब या एक आदर्श छवि मानते हुए एक अन्य लेख में मार्क्स कहते हैं:वास्तविक संसार का धार्मिक प्रतिबिंब किसी भी हाल में आखिर तौर पर तभी खत्म होगा जब जब इंसान के दैनिक जीवन का व्यावहारिक कामकाज इंसान कॊ एक दम पूरी तरह से समझ में आने के लायक तथा तथा विवेकशील और बुद्धिमता पूर्ण संबध दे सकेगा अपने साथी इंसानॊं के साथ और कुदरत के साथ।
किसी भी समाज की जॊ जीवन प्रक्रिया होती है वह उसके भौतिक उत्पादन की प्रक्रिया पर निर्भर होती है। मगर इसका रहस्य मय नकाब तब तक नहीं हट पाता है जब तक कि उत्पादन के इस काम कॊ स्वतंत्र रूप से जुड़ॆ इंसानॊं द्वारा न किया जाये तथा उनके द्वारा एक तय योजना के साथ सचेत रूप से नियंत्रित न की जाये। मगर ये भी सच है कि इसके लिए पहले एक ऐसा समाज चाहिए जो जिसमें इसके लिए बुनियादी काम कर लिया गया हॊ या जिसके इसके लिए एक सही सामाजिक अस्तित्व हॊ। ये सब विकास की एक अति ही लंबी तथा दर्दनाक प्रक्रिया से अपने आप पैदा होने वाली चीज़ें हैं।’
मार्क्स ने फ़लसफ़े के सबसे ज़रूरी काम के रूप में धर्म की आलॊचना या समालॊचना कॊ रखा था। वे कहते थे कि जर्मन की मुक्ति का मतलब है मानव की मुक्ति। इस मुक्ति का सिर हैफ़िलॉसफ़ी और इसका दिल है सर्वहारा। फ़िलॉसफ़ी कभी भी अपने कॊ सच नहीं कर सकती है सर्वहारा के उत्थान के बिना और सर्वहारा का उत्थान कभी भी फ़िलासफ़ी के सच हुए बिना संभव नहीं है।’
मार्क्स आगे ये भी कहते हैं कि ये सही है कि हम सिर्फ़ आलोचना रूपी हथियार से हथियारॊं की आलोचना नहीं कर सकते हैं या हथियार संपन्न वर्ग का कुछ नहीं बिगाड़ सकते हैं। सांसारिक या व्यावहारिक ताकतॊं कॊ तॊ सांसारिक या व्यावहारिक ताकतॊं से ही खत्म कर सकते है। मगर सच ये है कि सिद्धांत जब भी जनता कॊ अपनी पकड़ में ले लेता है वॊ एक सांसारिक या व्यावहारिक ताकत बन जाता है तथा सिद्धांत तब जनता कॊ अपनी पकड़ में ले लेता है जब वह ad himnem  हो जाता है यानि कि जब वह जनता के पूर्वाग्रहॊं, भावनाऒं तथा उसके खास हितॊं कॊ छू पाता है या जगा पाता है। जब वह उसके बुद्धि या विवेक के बदले उसके दिल से बात करता है और अपने विरोधियॊं का चरित्र हनन करने लगता है उसके तर्कॊं का ज़वाब देने के बदले। तथा सिद्धांत तब ad hominem बन जाता है जब ये क्रांतिकारी या मूलगामी हॊ जाता है। तथा मूल गामी हॊने का मतलब है किसी चीज़ की जड़ तक जाना। और इंसान की जड़ इंसान खुद है। इस लिए ये ज़रुरी है कि इंसान की बदहाली की जड़ यानी धर्म कॊ जड़ से खत्म कर दिया जाये। धर्म की आलॊचना आखिर कार हमें इस सिद्धांत तक लाती है कि इंसानॊं के संसार में इसान ही सबसे ऊपर है। इसलिए वैसी हर चीज़ तथा वैसे हर संबंध कॊ खत्म करना हॊगा जो इंसान कॊ पतित बनाती है, लाचार बनाती है, उसे ग़ुलाम बनाती है या कि उसे अनदेखा करती है तहा घृणित बनाती है।’
इस तरह से साफ़ है कि धर्म की आलॊचना सिर्फ़ एक सैद्धांतिक काम नहीं है, बशर्ते कि इस आलोचना का जन गण तक ले जाया जाये।
मार्क्स के बाद इस विषय पर लेनिन की चर्चा अगर न हो तॊ बात पूरी न हॊगी। लेनिन इस मामले में मार्क्स से भी आगे थे। रूस में आर्थॊडॉक्स चर्च का जैसा दबदबा था उसे देखते हुए लेनिन की ये बात समझ में खूब आती हैः हमें धर्म से हर हाल में संघर्ष करना ही होगा क्यॊं कि ये हमारी तरक्की के हर रास्ते में हमारे सामने आकर हमारा रास्ता रोकता है। इसके बाद वे यहाँ तक कहते हैं कि कॊई भी मार्क्सवादी इससे बड़ी भूल कर ही नहीं सकता है कि वॊ ये समझ ले कि लाखॊं करॊड़ॊं लॊग खास करके किसान और कारीगर जिन्हें कि आधुनिक समाज ने अज्ञान तथा पूर्वाग्रहॊं के गड्ढे में धकेल दिया है वे खुद अपने आप कॊ उस अज्ञान से निकाल सकेंगे सिर्फ़ मार्क्सवाद की सीधी शिक्षा  के दम पर। इसलिए नास्तिक तथा अदेववादी शिक्षा कॊ हमारे हर कार्यक्रम का अनिवार्य हिस्सा होना चाहिए।’ इस काम के लिए वे अठारहवी सदी के महान योरोपिय नास्तिक साहित्य का इस्तेमाल करने पर लगातार जॊर देते रहे थे। मार्क्स जिन बातॊं कॊ दर्शन और फ़लसफ़े के तौर पर कहते रहे थे इन्हीं कॊ लेनिन एक नेता की तरह सहज भाषा में कह देने में महारत रखते थे। एक अन्य सिलसिले में लेनिन ने कहा थाःपरमात्मा का ख्याल ही ऐसा है कि इसने सदा लोगॊं की सामाजिक भावनाऒं कॊ कुंद किया है तथा उन्हें नींद में सुला दिया है। इस ने जीवित लोगॊं की चिंता के बदले इंसानॊं मे मन में मरे हुए लोगॊं के प्रति प्यार कॊ पैदा किया है। इसने सदा ग़ुलामी कॊ और वॊ भी सबसे निर्मम और बुरे किस्म की ग़ुलामी कॊ मदद की है। परमात्मा के ख्याल ने किसी भी इंसान कॊ कभी भी समाज के साथ नहीं जोड़ा है। इसने सदा शॊषित वर्गॊं कॊ परमात्मा में विश्वास के धागे में बांध कर उन्हें अत्याचारियॊं की शरण में डाल दिया है।
भारत में धर्म का रूप, स्वरूप तथा आकार और प्रकार सदा से रूस में धर्म दबअदबे के मुकाबिल बहुत ही भयानक और डरावना रहा है। भारत में किसी भी कम्युनिस्ट पार्टी ने धर्म की समालोचना के सिद्धांत कॊ जनगण तक ले जाने की कोशिश नहीं की। भारत में आज ये काम समाज सुधारकॊं ने तथा खास करके दलित और पिछड़ॆ वर्ग की पार्टियॊं तथा नेताऒं ने ही किया है। जोतिबा फूले, पेरियार, अंवेडकर ने इस काम कॊ किया है और एक हद तक वे अपने सिद्धांत कॊ जनता के पास ले जाने में तथा उसे सांसारिक बनापाने में भी सफलता हासिल की। आज भी इस काम में दलित लगे हुए हैं। इस हिसाब से वे मानें न माने वे एक ऐसा काम कर रहे हैं जॊ एक मार्क्सवादी काम है। वे बहुत हद तक सफल भी हुए हैं। आज दलितॊं के विवाहॊं के मंडपॊं के आगे ग़णेश के बदले अंबेडकर और बुद्ध की मूर्ति होती है। मगर दुख की बात है कि भारत की कॊई भी मार्क्सवादी पार्टी इस काम कॊ नहीं कर रही है सिद्धांत रूप में भी। इसे जनता के बीच सांसारिक लोक व्यवहार का हिस्सा बनाने की कोश्श तॊ बहुत दूर की बात है। जब कि आज भारत में अगर कॊई सबसे बड़ी समस्या है तॊ धर्म की ही। जैसे पुराने देवी देवता और उनके मठ-मंदिर तथा मस्ज़िद-गुरुद्वारे कुछ कम थे; आज हर दूसरे दिन एक नया अवतार पैदा हॊ जाता है। एक तरफ़ मंदिरॊं-मस्ज़िदॊं-गिरज़ॊं में अथाह धन जमा पड़ा है  दूसरी तरह हर शहर की करीबन आधी आबादी सड़कॊं पर सोने कॊ लाचार। जनता का दुख इतना और इस कदर बढ गया है कि वॊ अपनी गाढी कमाई/सरप्लस कमाई का साठ प्रतिशत हिस्सा अपने बच्चॊं की पढ़ाई लिखाई और दवाई पर खर्च करने के बदले तीर्थ और कर्म कांड में खर्च कर देता है। एक अनुमान के मुताबिक भारत में मंदिरॊं की संख्या देश में स्कूल कॉलेज़ तथा अस्पतालॊं की संख्या से भी ज्यादा है। और कुछ नहीं तॊ इस देश की मार्क्सवादी पार्टियाँ इन सभी मंदिरॊं, मस्ज़िदॊ और गिरज़ॊं में एक प्राथमिक विद्यालय और एक प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र खॊलने के लिए भी क्या कॊई आंदोलन नहीं चला सकती है तथा क्या इसके लिए कॊई आंदोलन नहीं चलाया जा सकता है कि अपने अपने इलाके के दूसरे स्कूलॊं में भी बच्चॊं कॊ दोपहर का भॊजन ये मंदिर ही दें। अपने परिसर में चल रहे स्कूल और अस्पताल का सारा खर्चा तॊ खैर ये दें ही। मगर ऐसा करने से पहले इन्हें राहुल, रांगेय राधव, भगवत शरण तथा कौशांबी, जॊतिबा, पेरियार और अंबेडकर की धर्म समालॊचना कॊ जनता की चेतना का व्यावहारिक हिस्सा बनाना होगा।

इसे भी पढ़ें

शहीद ए आज़म भगत सिंह

28 सितंबर, 1907 कॊ जन्म और 23 मार्च 1931 कॊ फ़ाँसी। आखिर क्या था 23 …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *