Uncategorized – ज्ञान विज्ञान विश्व विद्यालय http://gyanvigyanprasar.com Global School of Science and Philosophy Thu, 11 Jan 2018 05:28:30 +0000 en hourly 1 https://wordpress.org/?v=5.2.3 Britain’s new energy mix http://gyanvigyanprasar.com/2018/01/blog-post_581.html http://gyanvigyanprasar.com/2018/01/blog-post_581.html#respond Thu, 11 Jan 2018 05:28:13 +0000 http://gyanvigyanprasar.com/?p=581 Chris Case, ‎Bob Underwood, ‎Jesse Zuck Britain Now Generates Twice as Much Electricity From Wind as Coal, And That’s a Big Deal There’s no turning back now. GRANT WILSON & IAIN STAFFELL, THE CONVERSATION 8 JAN 2018 Just six years ago, more than 40 percent of Britain’s electricity was generated by burning coal. Today, that …

The post Britain’s new energy mix appeared first on ज्ञान विज्ञान विश्व विद्यालय.

]]>

Chris Case, ‎Bob Underwood, ‎Jesse Zuck

Britain Now Generates Twice as Much Electricity From Wind as Coal, And That’s a Big Deal

There’s no turning back now.

GRANT WILSON & IAIN STAFFELL, THE CONVERSATION
8 JAN 2018

Just six years ago, more than 40 percent of Britain’s electricity was generated by burning coal. Today, that figure is just 7 percent.

Yet if the story of 2016 was the dramatic demise of coal and its replacement by natural gas, then 2017 was most definitely about the growth of wind power.

Ireland shares an electricity system with the Republic and is calculated separately), up from 10 percent in 2016.

This increase, a result of both more wind farms coming online and a windier year, helped further reduce coal use and also put a stop to the rise in natural gas generation.

Great Britain’s annual electrical energy mix 2017. (National Grid and Elexon)

In October 2017, the combination of wind, solar and hydro generated a quarter of Britain’s electricity over the entire month, a new record helped by ex-hurricane Ophelia and storm Brian.Great Britain’s annual electrical energy mix 2017 per month. (National Grid and Elexon)

Since that record month, large new offshore wind farms have started to come online. Dudgeon began generating off the Norfolk coast, as did Rampion, which can be seen from Brighton town centre.

In all, Britain’s wind output increased by 14 terawatt hours between 2016 and 2017 – enough to power 4.5 million homes. To give a sense of scale, this increase alone is more than the expected annual output from one of the two new nuclear reactors being built at Hinkley Point C.

Not only is offshore wind growing fast, it is also getting much cheaper. When the latest round of government auctions for low-carbon electricity were awarded last year, two of the winning bids from offshore wind developers had a “strike price” of £57.50 per megawatt hour (MWh).

This is considerably cheaper than the equivalent contract for Hinkley Point of £92.50/MWh (in 2012 prices).

Although these wind farms won’t be built for another five years, this puts competitive pressure on other forms of low-carbon electricity.

If there is to be a nuclear renaissance, or if fossil fuels with carbon capture and storage are to become a reality, these industries will have to adjust to the new economic reality of renewable energy.

Britain is using less electricity

Overall demand for electricity also continued its 12-year downward trend. More of the electricity “embedded” in the products and services used in the UK is now imported rather than produced at home, and energy efficiency measures mean the country can do more with less.

This meant Britain in 2017 used about as much electricity as it did way back in 1987 – despite the considerable population growth.

At some point this trend will reverse though, as electric vehicles and heat pumps become more common and electricity partly replaces liquid fuels for transport and natural gas for heating respectively.

One major challenge this brings is how to accommodate greater seasonal and daily variation in the electricity system, without resorting to the benefits of fossil fuels, which can be pretty cheaply stored until required.

Electricity generated in Britain is now the cleanest it’s ever been. Coal and natural gas together produced less than half of the total generated.

Britain’s electricity was completely “coal free” for 613 hours last year, up from 200 hours in 2016. This position would be wholly unthinkable in many countries including Germany, India, China and the US, which still rely heavily on coal generation throughout the year.(National Grid and Elexon)

However, the low level of coal generation over 2017 masks its continued importance in providing capacity during hours of peak demand. During the top 10 percent hours of highest electrical demand, coal provided a sixth of Britain’s electricity.

When it matters most, coal is relied on more than nuclear, and more than the combined output from wind + solar + hydro. Additional energy storage could help wind and solar meet more of this peak demand with greater certainty.

Looking forward to 2018, we would be surprised if wind generation dropped much from its current levels. Last year wasn’t even particularly windy compared to the longer-term average, and more capacity will be coming online.

Equally, it would be surprising if solar and hydro combined produced significantly less than they did last year.

It is therefore inevitable that another significant milestone will be reached this year. At some point, for several hours, wind, solar and hydro will together, for the first time, provide more than half of Britain’s electricity generation.

This goes to show just how much a major power system can be reworked within a decade.

The ConversationThe data used in this article is based on the Energy Charts and Electric Insights websites, which allow readers to visualise and explore data on generation and consumption from Elexon and National Grid.

Data from other analyses (such as BEIS or DUKES) will differ due to their methodology, particularly by including combined heat and power, and other on-site generation which is not monitored by National Grid and Elexon.

Our estimated carbon emissions are based on Iain Staffell’s research published in Energy Policy, and account for foreign emissions due to electricity imports and biomass fuel processing.

Grant Wilson, Teaching and Research Fellow, Chemical and Biological Engineering, University of Sheffield and Iain Staffell, Lecturer in Sustainable Energy, Imperial College London.

The post Britain’s new energy mix appeared first on ज्ञान विज्ञान विश्व विद्यालय.

]]>
http://gyanvigyanprasar.com/2018/01/blog-post_581.html/feed 0
हमारा संविधान http://gyanvigyanprasar.com/2017/08/blog-post_561.html http://gyanvigyanprasar.com/2017/08/blog-post_561.html#respond Mon, 14 Aug 2017 10:44:34 +0000 http://gyanvigyanprasar.com/?p=561 तुम जब भी हमारे संविधान का नाम लेते हॊ, संविधान का एक न एक पन्ना कम हो जाता है। तुम जब भी किताब ए अंबेदकरी कॊ थाम लेते हॊ, किताब ए अंबेदकरी का एक पन्ना बेदम हो जाता है।   तेरे मन वचन कर्म में न जाने कैसा जादू है, तू जिसे शाम कॊ रोके …

The post हमारा संविधान appeared first on ज्ञान विज्ञान विश्व विद्यालय.

]]>
तुम जब भी हमारे संविधान का नाम लेते हॊ,

संविधान का एक न एक पन्ना कम हो जाता है।

तुम जब भी किताब ए अंबेदकरी कॊ थाम लेते हॊ,

किताब ए अंबेदकरी का एक पन्ना बेदम हो जाता है।

 

तेरे मन वचन कर्म में न जाने कैसा जादू है,

तू जिसे शाम कॊ रोके है, सुबह वही बेकाबू है,

तुम जब भी ग़रीबी मिटाने कॊ कॊई दाम देते हॊ,

कॊई न कॊई गरीब समूह बेचारा खतम हॊ जाता है।

तुम जब भी हमारे संविधान का नाम लेते हॊ,

संविधान का एक न एक पन्ना कम हो जाता है।

 

तेरे ज़लवॊं की बात कहूँ तॊ मैं क्या कहूँ सरकार,

तेरे आगे आगे जयजयकार, तेरे पीछे है हाहाकार,

तुम जब किसानॊं कॊ सलामती का सलाम देते हॊ,

माँ भारती के दिल में एक नया ग़म हॊ जाता है।

तुम जब भी हमारे संविधान का नाम लेते हॊ,

संविधान का एक न एक पन्ना कम हो जाता है।

 

अरे बेमिसाल हैं तेरे रोज़ाना और मासिक फ़रमान,

जिनके कफ़न में लिपट जाते हैं जन गण के अरमान,

तुम जब भी उन सब की बेहतरी का पैग़ाम देते हॊ,

मादरे हिंद का एक न एक सपना अधम हॊ जाता है।

तुम जब भी हमारे संविधान का नाम लेते हॊ,

संविधान का एक न एक पन्ना कम हो जाता है।

The post हमारा संविधान appeared first on ज्ञान विज्ञान विश्व विद्यालय.

]]>
http://gyanvigyanprasar.com/2017/08/blog-post_561.html/feed 0
दिल्ली डायरी http://gyanvigyanprasar.com/2016/06/blog-post_455.html http://gyanvigyanprasar.com/2016/06/blog-post_455.html#respond Wed, 01 Jun 2016 11:51:47 +0000 http://gyanvigyanprasar.com/?p=455 Delhi Diary इस स्तम्भ की शुरुआत मैं एक नये तरीके से कर रहा हूँ। इस में मैं सबसे बाद में देखे या सुने कार्यक्रम का जिक्र सबसे पहले करूँगा।     सो इस सिलसिले में मैं शुरूआत सबसे पहले कल ही श्रीराम सेंटर में देखे गये एक नाटक से करना चाहता हूँ। (1) कल जिस …

The post दिल्ली डायरी appeared first on ज्ञान विज्ञान विश्व विद्यालय.

]]>
Delhi Diary

इस स्तम्भ की शुरुआत मैं एक नये तरीके से कर रहा हूँ। इस में मैं सबसे बाद में देखे या सुने कार्यक्रम का जिक्र सबसे पहले करूँगा।

 

 

सो इस सिलसिले में मैंlecture शुरूआत सबसे पहले कल ही श्रीराम सेंटर में देखे गये एक नाटक से करना चाहता हूँ।

(1) कल जिस नाटक कॊ मैंने देखा उसमें एक ही इंसान के खंड खंड व्यक्तित्व की कहानी है। इस कहानी का नाम द्रौपदी है। इसमें ऊपर से देखें तॊ एक भरा पूरा खुशहाल और एकल परिवार है। इसमें पति पत्नी और दो बच्चे है। समय के साथ जीवन के भीतरी बाहरी दबावॊं के कारण पति का व्यक्तित्व पाँच हिस्से में बंट जाता है। एक हिस्सा एक दवा कंपनी के मुलाज़िम का है। दूसरा हिस्सा एक शराबी का है। तीसरा हिस्सा एक ऐय्याश इंसान का है चौथा हिस्सा उस इंसान का है जॊ जीवन कॊ न्याय नीति के साथ जीना चाहता है। सबसे बुरी हालत इसी हिस्से की होती है। जब नायक अपने दफ़्तर में घॊटाला करता है तॊ उसका एक हाथ सड़ जाता है। ज्ब नायक अपनी कार से एक बच्चे कॊ कुचलने के बाद भाग जाता है तॊ उसकी एक पैर सड़ जाता है। जब उसकी प्रेमिका कॊ अपना गर्भ गिराना पड़ता है तॊ तॊ उसकी एक आँख अंधी हो जाती है। पाँचवाँ हिस्सा उस इंसान का है जॊ अपने ही व्यक्तित्व के इन परस्पर विरॊधी हिस्सॊं के बीच संतुलन बनाने की कोशिशें करता रहता है।

उसके बच्चे इस विखंडन से बेखबर अपने जीवन कॊ प्यार मुहब्बत से जीने में लगे हैं। उसकी पत्नी उसके इस विखंडन कॊ समझती है मगर सब कुछ जान के भी अनजान बने रहने में ही अपनी भलाई समझती है। जैसे ही उस इंसान कॊ अपने इस विखंडन का अहसास हॊता है नाटक खत्म हॊ जाता है।

इस तरह से ये नाटक एक समस्या नाटक है जॊ समस्या की सिर्फ़ तरफ़ इशारा करता है, उसके समाधान की कॊई बात नहीं करता है।

 

(2) इसके पहले एक नातक देखा था। ये छॊटा सा नुक्कड़ नाटक था। इसमें विभिन्न नृत्य रूपॊं के बारे में बताने की कोशिश की थी।इसी में ये पता चला कि कुचिपुडी नाटक का जन्म आम्ध्र प्रदेश के एक गाँव में हुआ था।

बाकी कॊई खास उल्लेखनीय बात इस नाटक में नहीं थी।

मैं सिर्फ़ ये बात इसमें जोड़ना चाहूँगा कि इन सब शास्त्रीय नृत्यॊं का जन्म उस समय उन क्षेत्रॊं में प्रचलित लोक नृत्यॊं के ही कॊख से हुआ है तथा ये सब मंदिरॊं में शास्त्र्कृत हुए थे। इनमें से अधिकतर कॊ उस समय मंदिरॊं की देवदासियॊं ने जन्म दिया था।

(3) इससे पहले मैंने एक नाटक देखा था जॊ कि काफ़्का के उपन्यास ‘दी ट्रायल’ पर आधारित था। इस नाटक में नायक कॊ सिर्फ़ इस आधार घर में ही नज़रबंद करर लिया जाता है कि वह कॉफ़ी हाऊस में कप में तूफ़ान खरा करने का शौकीन था तथा वहाँ बैठ कर वह धर्म, धन तथा राज सत्ता के खिलाफ़ खुल कर बोलता था करता कुछ नहीं था।

इस लिए जब उसे घर में ही गिरफ़्तार कर लिया गया तॊ उसने सिपाहियॊं से पूछाः मेरा कसूर क्या है?

सिपाहीः तुम्हारा कसूर क्या है ये तुम्हें तब पता चलेगा जब मुकदमा शुरू होगा। अभी हमें तॊ सिर्फ़ इतना कहा गया है कि हम तुम्हें नज़रबंद कर लें।

नायक काफ़ी परेशान हॊता है। उसे लगता है कि उसके साथ भारी अन्याय हॊ रहा है। इसी बीच में उसे अपनी नौकरानी से पता चलता है कि सत्ताधारी लॊग उसकी सोच और उसके चिंतन पर काबू करना चाहते हैं।

काफ़्का के नायक को ये पता नहीं चल पाता है कि ऐसा क्यॊं किय जा रहा है, किसके इशारे पर किया जा रहा है। काफ़्का के नायक बहुत ही सोचने के बाद भी ये नहीं समझ पाते हैं कि आखिर कॊई उनकी सोच पर काबू कैसे कर सकता है।

खैर कहानी आगे बढती है। एक अदालत में उनकी सुनवाई होती है। उन्हें पता चलता है कि अदालत ने पहले से ये तय कर रखा है कि उनकी नज़रबंदी खत्म नहीं की जायेगी। इसके बाद हताताश में आ कर वे अदालत में भी वही सब बातें कहने लगते है जिसे वे कॉफ़ी हाऊस में कहने के शौकीन थे।

सो सत्ताधारीयॊ  कॊ ये बात काफ़ी खतरनाक लगी और एक दिन उन्हें एक सुनसान जगह में बुला कर सत्ता के कारिंदे उनकी हत्या कर देते है। हत्या का दिन क्रिसमस वाला दिन था तथा उसी दिन नायक का जन्म दिन भी था। ये उपन्यास पढने लायक है।

यह नाटक हमें है बतलाता है कि सारी सत्ताये वास्तव में कितनी डरी हुई होती हैं। महानतम राजसत्तायें भी कॉफ़ी हाऊस की बहसॊं कॊ नहीं झेल पाती हैं।

 

(4) इससे पहले मैंने विजय तेंदुलकर का एक नाटक देखा ‘ ‘जाति ही पूछॊ साधू की’। इसनाटक कॊ क्लासिक नाटक का दर्ज़ा मिल चुका है। नाटक की कहानी में एक नायक है जो शिक्षित बेरोज़गार है। एक कॉलेज़ है जिसे एक दबंग जाति चला रही है। उस कॉलेज़ में हिंदी विभाग में एक लेक्चरर की भर्ती होनी। बहुत कोशिश करने के बाद भी इस कॉलेज़ के मालिकॊं कॊ अपनी जाति का कॊइ लड़का नही मिलता है। लॊग इससे जाति पूछ लेने के बाद इसे रख लेते हैं क्यॊंकि इस इंटरव्यु में कॊई दूसरा आदमी आय ही नही था। कुछ दिनॊं के बाद उसी कॉलेज़ में हिंदी विभाग में ही लेक्चरर बन केउसकॉलेज़ के अध्यक्ष की भतीजी आ जाति है। बीच में इस लेक्चरर महॊदय कॊ बच्चॊं कॊ सभालने में काफ़ी दिक्कतें हॊती है। मगर अध्यक्ष महॊदय की भतीजी इन पर आशिक हो जाती है। सॊ कॉलेज़ के ही एक दादा की मदद से ये लेक्चरर महॊदय अध्यक्ष की भतिजी कॊ भगा कर शादी करने की जुगत में लग जाते हैं। मग्र दुर्भाग्य से दादा जॊ है वह भतीजी के बदले बुआ कॊ उठा कर ले आता है। लेक्चरर महॊदय उसे लौटा देते है। इस चक्कर में बात खुल जाती है तथा एक दिन रात में इनकी जाति पुछी जाति है। इन्हें इनकी जाति की औकात बताई जाती है तथा खूब लात और घूँसे बरसाये जाते हैं इनके ऊपर ग़ालियॊं की बौछार के साथ तथा कहा जाता है कि आगे से कॉलेज़ की तरफ़ मुँह मत करना।

सॊ हिंदुस्तान में जाति ही पूछने लायक चीज़ बनी हुई है आज तक। कभी मौका मिले तो इस नाटक कॊ भी ज़रुर पढ़ॆ।

(5) इससे पहले एक नाटक था शंकर शेष का। नाटक का नाम था ‘मायावी सरॊवर’। ये ऐसा नाटक है जॊ लिंग भेद की समस्या कॊ बड़ॆ ही मॊहक तरीके से उठाता है। इस नाटक में एक राजा है। एक रानी है। उनका एक बेटा है। उनके बीच अक्सर इस बात कॊ लेकर कहासुनी हॊती रहती थी कि वे एक दूसरे कॊ नहीं समझते हैं। राजा कह्ता था कि उसका राज काज का काम ऐसा कठिन है कि उसे वक्त ही नहीं मिलता है। वह बहुत परेशान रहता है। उसी तरह से रानी कहती है कि उसे भी घर के कामॊं से वक्त नहीं मिलता है। ऊपर से पति और बच्चे की देखभाल के बाद तो उसके पास अपने लिए कॊई समय ही नहीं बचता है।

संजॊग ऐसा बनता है कि राजा रानी घूमने जाते है। घूमते घूमते किसी दूसरे राज्य में पहुँच जाते हैं जहाँ एक मायावी सरॊवर है। राजा ज़िद करके उसमें नहाने चला जाता है। जाते ही उसके अंदर बदलाव होने लगते हैं तथा वह पूरी तरह से औरत बन जाता है।

औरत बनने के बाद उसका मन सिर्फ़ बच्चे खिलाने तथा एक पति की तलाश करने तथा अंचार मुरब्बे बनाने का करने लगता है। रानी के बहुत समझाने के बाद जब राजा अपने स्त्री भेस में अपने राज में पहुँचता है तॊ उसके राज पुरॊहित उसे आर्य परंपरा के मुताबिक राजा म्नने से मना कर देते है। तथा राज राजा के नाबालिग बेटॆ को दे दिया जाता है तथा रानी से कहा जाता है कि राजकुमार के बालिग होने तक वे राज काज संभाले।

रानी कॊ शुरू में बहुत अच्छा लगता है। मगर अंत में वह इन सब चीज़ॊं से हार जाती है। उसे अपने स्त्रैण गुणॊं कॊ खोना बहुत ही नागवार लगता है। इस लिए जैसे ही बेटा जवान हॊ जाता है, वह राज काज उसी के सौप देती हैं तथा फ़िर से अंचार और मुरब्बे बनाने का आनंद लेने लगती है। मगर पाती हैं कि वे मर्द तॊ नहीं ही बन सकी, साथ में उन्हें अब औरतॊ के काम में भी मन नहीं लगता है।

इधर राज छॊड़ कर स्त्री रूप में भटकने वाले राजा के ऊपर एक ऋषि का दिल आ जाता है और राजा उसकी पत्नी बन कर रहने लगते हैं तथा उन्हें ऋषि से एक बेटा भी हॊता है। मगर स्त्री बनने के बाद भी राजा अपनी युद्ध विद्या नहीं भूले थे तथा उन्हें ने अपने बेटॆ कॊ वेद तता ब्रह्म सूत्र पढ़ाने के बदले अश्व संचालन तथ धनुर्विद्या की तालीम दी।

एक दिन राजा का पहला बेटा राजा बनने के बाद अपने राज्य विस्तार के लिए अश्वमेध यज्ञ करता है। मगर यज्ञ का घॊड़ा जैसे ही स्त्री रूपी राजा के दूसरे बेटॆ के पास पहुँचता है, वह उस घॊड़ॆ कॊ पकड़ लेता है। अब राजा के दोनॊं बेटॊं के बीच युद्ध की नौबत आ जाती है। मगर तभी रानी आ जाती है। वह अपने स्त्री रूपी राजा पति कॊ पहचान लेती है। मगर स्त्री रूपी राजा कॊ अपना पॆट जाया बेटा ज्यादा प्रिय है तथा वह चाहता है कि उसके पहले बेटॆ के बदले उसका दूसरा पेट जाया बेटा ही राजा बना। समस्या बड़ी गंभीर हो जाती है। तभी देवराज इंद्र वहा।म पर गिरते पड़ते आते हैं तथा स्त्री रूपी राजा कॊ फ़िर से पुरूष बना देते हैं और ताक फ़िर से राजा कॊ ही मिल जाता है।

मै कहना चाहुँगा कि शंकर शेष हिंदी के महान नाटककारॊं में से एक हैं तथा इनके इस नाटक कॊ कढना चाहिए। फ़िल हाल इतना तॊ हम समझ ही लें कि यदि हम मर्द हैम तॊ हमें औरतॊं के जीवन की समस्याऒं कॊ समझने की कोशिश करनी चाहिए तथा अगर औरत हैं तॊ हमें मर्दॊ की ज़िंदगी की मुसीबतॊं कॊ महसूसने की कॊशिश करनी चाहिए।

 

(6) इसके पहले एक नाटक देखा था जिसका नाम था ‘ खेल मंडली खेल’ इस नाटक कॊ प्रहसन के रूप में लिखा गया है तथा इसमें तर्ह तरह के बाबाऒं के पाखंड का पर्दाफ़ाश किया है। ये नाटक तीन मंडलियॊः गणिका यानि वेश्या मंडली, बाबा मंडली तथा मनचली मंडली के बीच की उठा पटक की कहानी है। बड़ा मज़ेदार प्रहसन है। इसे तेरहवीं सदी के वत्सराज नामक नाटककार ने लिखा है। मगर इंटरनेट पर इनकी किताबें मुझे मिली नहीं। कभी एन  एस डी से इस किताब कॊ लकर पढने के बाद दुबाड़ा इस पर कुछ लिखूँगा। इस कहानी में कुछ भी पवित्र नहीं है। हर चीज़ का मज़ाक उड़ाया जाता है।

इस नाटक कॊ देखते समय कइ बार मुझे ये लगा कि क्या हम आज भी उसी देश के वासी हैं जिसमें वत्सराज जैसे नाटककार हॊते थे।

 

(7) इस से पहले एक नाटक देखा था ‘पार समंदर’। बड़ी प्यारी कहानी है ये एक बालक पेंग्विन की। वह अक्सर पनए घर और अपनी जगह से बाहर कि दुनिया कॊ देखना चाहता था। मगर उसके माता पिता उसे इसकी इजाजत नहीं देते थे। उसे बार बार पकड़ के वापस घर ले आते थे। उसे संदर के पास जाने ही नहीं देते थे। एक बार एक तूफ़ान में वह पेंग्विन मौका पाकर अपने माता पिता से बिछड़ गया और समंदर में चला ही गया। तैरते तैरते वह अफ़्रीका पहुँच गया। रास्ते में जॊ भी मिला सब से दोस्ती करता गया तथा उसकी मित्र मंडली बढ़ती चली गई। अफ़्रीका में उसने खूब दोस्ती यारी की। सबकी मदद की सबसे मदद ली। मगर कुछ के बाद उसका मन उचट गया। उसे घर की याद आने लगी। जब दोस्तॊं कॊ ये बात पता चली तॊ सब जानवर दोस्तॊं ने मिल कर उसे वापस अंटार्कटिका पहुँचाने की कॊशिश की। वे सफल रहे। नन्हा पेंग्विन सारी दुनिया सारी धरती का चक्कर लगाने के बाद एक बार फ़िर से अपने माँ बाप की गोद में आ गया। इसमें एक मज़ेदार बात ये भी है कि बालक पेंग्विन कॊ अपने घर के नाम पर सिर्फ़ ‘टिका’ ‘टिका’ की याद थी वह साफ़ साफ़ अपने घर अंटार्क्टिका का नाम भी नहीम ले पाता था। फ़िर भी अपने घर अपने दोस्तॊं की मदद से पहुँच गया।

 

(7) इससे पहले एक नाटक देखा था ‘किस्से सुझ बूझ के।’ इस में आफ़ंदी के किस्से है। इसमें छ किस्से का मंचन किया गया है।

पहला किस्सा ये हैः बादशाह के राज में जनता बहुत दुखी थी। एक बार बादशाह शिकार पर गया। आफ़ंदी ने एक व्यापारी से सोने के सिक्के उधार लिए और राजा जिस राह से आने वाला था, उस रास्ते में समंदर किनारे बैठ कर सोने के सिक्के गिनने, रोपने लगा। बादशाह ने देखा तॊ उसे बड़ी हैरत हुई क्यॊंकि आफ़ंदी अमीर तॊ था नही कि उसके पास इतने सिक्के आ जायें। उसने पूछाः ये क्या कर  रहे हो? आफ़ंदीः ज़हाँपनाह, ये पिछली साल की फ़सल है। मैंने पिछली साल भी सोने के सिक्के रोपे थे। इस बार भी बहुत अच्छी फ़सल होने की उम्मीद है।

बादशाह बड़ा ही लालची था। उसने कहाः मेरे लिए भी सिक्के रोप दॊ। बाद में उसकी फ़सल मुझे दे देना। तय हुआ कि 80 फ़ीसदी फ़सल बादशाह को मिल जायेगी। बादशाह ने अपने खज़ाने से सोने के सारे सिक्के आफ़ंदी कॊ दे दिए।

आफ़ंदी ने सारे सिक्के गरीबॊं और ज़रुरतमंदॊं कॊ बांट दिए। फ़िर भारी बारिश हॊ गई। उसके बाद आफ़ंदी अपनी रॊनी सूरत लेकर बादशाह के पास गया। बादशाह से कहाः ज़हाँपनाह, हमारी सोने की फ़सल नष्ट हॊ गई आप बर्बाद हो गये।’

बादशाहः क्या सोने की फ़सल भी बर्बाद होती है?

आफ़ंदीः बेशक, तॊ ये क्यॊं मान लिया था कि सोने की खेती हॊती है।

ये सुन कर बादशाह अवाक रह गया। उसके मुँह मेंज़बान नहीं बची।

दूसरा किस्साः इसमें आफ़ंदी यानि कि सूत्रधार कुछ लॊगॊं से पुछता हैः क्या तुम लोग जानते हॊ कि मैं क्या कहने वाला हूँ?

वे लोग कहते हैं: हाँ।

इनकी मूर्खता कॊ जग ज़ाहिर करने के ख्याल से आफ़म्दी दूसरे समूह से भी पूछता हैः तुम जानते हॊ कि मैं क्या कहने वाला हूँ?

अपनी इज़्ज़त बचाने के ख्याल से वे कहते हैं:  हाँ।

इसके बाद दोनॊं कॊ सबक सिखानेके ख्याल से आफ़ंदी कह देता हैः जॊ लॊग जानते हैं कि मैं क्या कहने वाला हूँ, उन लॊगॊं की बता दें जॊ नहीम जानते हैं कि मैं क्या कहने वाला हूँ।

तीसरा किस्साः एक बादशाह लॊगॊं से उलटे पुलटॆ सवाल कर के ज़वाब न मिलने पर उन्हें दंड देने का बड़ा शौकीन था। सो एक बार उसने पूछाः धरती की सतह का केंद्र कहाँ है? जॊ भी उसे बता देगा उसे ईनाम मिलेगा। इस पर आफ़ंदी आया। उसने कहः मेरे गदहे के आगले बायें पैर के नीचे जॊ जगह है वही धरती की सतह का केंद्र है।

बादशाह ने कहाः कैसे मान लें।

इस पर आफ़ंदी ने कहाः आप चाहें तॊ धरती सतथ कॊ नाप लें।

बादशाह चुप।

इसके बाद ब्दशाह को आफ़ंदी कॊ ईनाम देना ही पड़ा। फ़िर भी आफ़ंदी कॊ सबक सिखाने के ख्याल से उसने एक नया सवाल सोचा। आसमान में कितने तारे हैं।

आफ़ंदीः ज़नाब, जितने आपकी दाढी में बाल है। जब बादशाह से कुछ भी कहते न बना तॊ उसने पूछाः और मेरी दाढ़ी में कितने बाल है?

आफ़ंदीः जी, जनाब मेरे गदहे की पूँछ में जितने बाल हैं, ठीक उतने ही।

बादशाह ने भड़कते हुए पूछाः तुम मेरी दाढ़ी के ब्लों की तुलना अपने गदहे की पूछ से कैसे कर सकते हॊ? तुम्हें इसकी सज़ा मिलेगी।

आफ़ंदीः सज़ा देने से पहले आपको मेरे गदहे की पूछ की बाल कॊ गिनवाना चाहिए अगर वे आसमान के तारॊं से एक भी कम निकले तॊ मेरा सिर और आपकी तलवार।

बादशाह चुप।

चौथ किस्साः एक बार आफ़ंदी के मुहल्ले के बच्चे बड़ॆ भूखे थे। वे उस मुहल्ले के हलवाई के हलवे कि सुगंध कॊ सूंघने से खुद कॊ न रोक सके। जब हलवाई ने ये देखा तो उसने बच्चॊं से पैसे मांगे। बच्चे के पास पैसे थे कहाँ जॊ देते। इस हलवाई ने उन बच्चॊं की शिकायत गाँव के प्रधान से कर दी। बच्चे हलकान। वे आफ़ंदी के पास गये। आफ़ंदी हलवाई के पास गये। उन्हॊंने उसके कान के पास सिक्कॊं की एक थैली कॊ हिलाया। उससे सिक्कॊं के खनक की आवाज़ सुनाई दी। फ़िर आफ़ंदी बॊलाः हिसाब बराबर।

हलवाइ ने कहाः बच्चॊं ने हलवे की महक सुंघी थी। मैंने तुम्हें सिक्कों की खनक सुना दी।

हलवाई चुप।

पाँचवा किस्साः ये किस्सा आफ़ंदी के ही आत्मभाई मुल्ला नसीरूद्दीन के बारे में है। एक बार नसीरूद्दीन के घर कुछ मेहमान आये तॊ उसने अपने एक कंज़ूस पड़ॊसी से एक बर्तन माँगा। बड़ी मुश्किल से उसने एक छॊटी सी कड़ाही दी उसे। कुछ दिन के बाद जब पड़ॊसी ने अपना बर्तन माँगा तॊ नसीरूद्दीन ने उसे उस छॊटी सी कड़ाही के साथ साथ एक और छॊटा बर्तन भी दिया और कहाः आपकी कड़ाही कॊ एक बेबी हुआ था। इसलिए लौटाने में देरी हॊ गई। कंज़ूस बड़ा खुश हुआ। इसके बाद अगली बार जब नसीरूद्दीन के पास मेहमान आये तॊ नसीरूद्दीन एक बार फ़िर से उसके पास पास बरतन माँगने गया। इस बार कंज़ूस ने उसे एक बहुत बड़ा बरतन दिया। मग्रइस बार जब वापस बरतन माँगने आया कंज़ूस तॊ मुल्ला ने कहाः आपका बरतन डॆड हो गया।

कंज़ूस ने कहाः कहीं बरतन भी मरते हैं?

मुल्लाः क्यॊं, जब बरतन कॊ बेबी हो सकता है तॊ बरतन मर क्यॊं नहीं सकते हैं।

कंज़ूस चुप।

छठी कहानीः एक राज कुमारी थी। उसे घुड़सवारी बड़ी अच्छी लगती थी। वह सोचती थी कि अगर उसके घॊड़ॆ के पंख उग आते तॊ कितना अच्छा होता! फ़िर वह आसमान में ऊँचा उड़ कर सब कुछ देख पात्ती। एक दिन आफ़ंदी आता है और कहता है कि अगरर उसके पास एक घॊड़ा होता तॊ वह दूर पहाड़ॊं में जाकर ऐसी जड़ी बूटी खिलाता घॊड़ॆ कॊ कि उसके पंख उग आते। राजकुमारी ने खुश हॊ कर उसे अपना ही घॊड़ा दे दिया। आफ़ंदी उस घॊड़ॆ पर चढ कर घूम फ़िरा फ़िरा फ़िर कुछ फ़ुरसत मिलते ही उसे बेच दिया तथा सारा पैसा गरीबॊं और ज़रूरत मंदॊं में बांट दिया।  फ़िर वापस आया तॊ राजकुमारी बहुत खुश हुई। मगर पूछा मेरा पंख वाला घॊड़ा कहाँ है? आफ़ंदी ने कहाः मेरी जड़ी बूटी से उसे पंख मिले, मगर पंख मिलते ही वह घॊप्ड़ा उर गया और भाग गया।

राजकुमारी हताश हॊ कर रोने लगी।

(8) एक समय था जब दिल्ली में बहुत सारे बौद्धिक व्याख्यान भी होते थे। लॊग खुल कर काफ़्का के नायक की तरह अपनी बातें रखते थे। मगर आज न वैसे बुद्धिजीवी वक्ता हैं, न वैसे श्रॊता। मैं भी बुढ्ढा हो गया हूँ। फ़िर भी एक दिन सी राजा मॊहन के एक व्याख्यान में चला गया था। उन्हॊंने बात तॊ यहाँ से शुरू की कि भारत की विदेश नीति स्वतंत्र हॊनी चाहिए, मगराखिर में यहाँ पर आ गये कि भारत कॊ दुनिया के पटल पर अमरीकी विदेश नीती के साथ खड़ा होना चाहिए। दुनिया के कमज़ॊर देशॊं की हिमायत करने के बदले अपना हित साधन करना चाहिए। यानि व्यापारिक साम्राज्यवाद में अम्रीका का साथी बन जाना चाहिए।

 

 

The post दिल्ली डायरी appeared first on ज्ञान विज्ञान विश्व विद्यालय.

]]>
http://gyanvigyanprasar.com/2016/06/blog-post_455.html/feed 0