मासिक आर्काइव: April 2016

Euthyphro in 21st century

  Euthyphro in 21st century (Socrates and Euthyphro in The king’ s i.e Archon’s court)   Socrates: Hey Euthyphro, how come you are here?   Euthyphro: I am here to prosecute my father for a murder.but what are you doing here?   Socrates:  I am also here in connection with a litigation in which I have to answer the charges leveled against me by Anitus and Melitus and company. They have accused me of leading the youths stray and also worshipping foreign Gods.   Euthyphro :so sad.   Socrates: But how could your father murder some one. He is such a nice man.   Euthyphro: Oh, he did not do it knowingly. But a murder is a murder. And it is in the interest of Piety or justice that he be punished.   Socrates: But, I think puniing one’s own father is not right, nor it is pious.   Euthyphro: No, I think, rules of  piety and righteousness are same for one and all. So, even if a father acts in an injudicious manner, he has to be punished by a sun with the help of the court.   Socrates: But what is Piety? What is righteousness? Do you know …

अधिक पढ़ें »

या तॊ दुनिया के सारे के सारे इंतज़ाम पाप हैं

या तॊ दुनिया के सारे के सारे इंतज़ाम पाप हैं, या फ़िर ईश्वर अल्लाह के सब पैग़ाम पाप है।   एक ओर गगनचूंबी मंदिरमस्ज़िद गिरजे गुरूद्वारे, दूसरी तरफ़ मारे मारे फ़िरते इंसां बेघर बेसहारे, सो या तॊ ये सारे के सारे धर्म धाम पाप है, या फ़िर ईश्वर अल्लाह के सब पैग़ाम पाप हैं।   गीता-इंज़िल-कुरआन-पुराण सब ज्ञान के भंडार हैं, इधर निर्बल,निर्धन बच्चॊं कॊ हर अक्षर अंगार है, तॊ या तॊ ये सब के सब धर्म के ठाम पाप हैं, या फ़िर ईश्वर अल्लाह के सब पैग़ाम पाप है।   पुजारी-पादरी-मुल्ले-ग्रथी सब ऊपरवाले के कारसाज़ नीचे बेकस बेकल लोग, यहाँ हर जगह शैतान राज, या तॊ इन सब के सारे के सारे धर्म-काम पाप हैं, या फ़िर ईश्वर अल्लाह के सब पैग़ाम पाप है।    

अधिक पढ़ें »