मासिक आर्काइव: June 2016

A classic formula for pi has been discovered hidden in hydrogen atoms

For the first time, scientists have discovered a classic formula for pi in the world of quantum physics. Pi is the ratio between a circle’s circumference and its diameter, and is incredibly important in pure mathematics, but now scientists have also found it “lurking” in the world of physics, when using quantum mechanics to compare the energy levels of a hydrogen atom. Why is that exciting? Well, it reveals an incredibly special and previously unknown connection between quantum physics and maths. “I find it fascinating that a purely mathematical formula from the 17th century characterises a physical system that was discovered 300 years later,” said one of the lead researchers, Tamar Friedmann, a mathematician at the University of Rochester in the US. Seriously, wow. The discovery was made when Carl Hagen, a particle physicist at the University of Rochester, was teaching a class on quantum mechanics and explaining to his students how to use a quantum mechanical technique known as the ‘variation principle’ to approximate the energy states of a hydrogen atom. While comparing these values to conventional calculations, he noticed an unusual trend in the ratios. He asked Friedmann to help him work out this trend, and they quickly …

अधिक पढ़ें »

औरतें अल्लाहॊं, परमात्माऒं तथा खुदाऒं के समान होतीं है,

औरतें अल्लाहॊं, परमात्माऒं तथा खुदाऒं के समान होतीं है, सारे जड़ चेतन, चर अचर की मालकिन ओ भगवान हॊती है। उन्हीं की तरह ये जब जॊ चाहें कह सकती हैं, कर सकती है, किसी के भी हाथ राख तॊ किसी के हाथ लाख धर सकती है, औरतें धरती, प्रकृति की बहन, कुदरत का संविधान होती है। औरतें अल्लाहॊं, परमात्माऒं तथा खुदाऒं के समान होतीं है, सारे जड़ चेतन, चर अचर की मालकिन ओ भगवान हॊती है।   धन, धर्म और सता के सारे अनाचारॊं कॊ झेल कर भी बनी हैं, तॊ अपनी ही ताकत से बनी है,आज पहली दफ़े यूँ तनी है, इतनी सी बात से सब धर्मॊं की सत्ता आज हलकान हॊती है। औरतें अल्लाहॊं, परमात्माऒं तथा खुदाऒं के समान होतीं है, सारे जड़ चेतन, चर अचर की मालकिन ओ भगवान हॊती है।   अब वे एक बार फ़िर से महादेवी, जगदम्बा बनेंगी, ग्राम-नगर देवी, सरस्वती, अन्नपूर्णा, अम्बा बनेंगी, देखना उनके राज में कैसे ज़िंदगी फ़िर ग़ुलजान हॊती है। औरतें अल्लाहॊं, परमात्माऒं तथा खुदाऒं के समान होतीं है, सारे जड़ चेतन, चर अचर की मालकिन ओ भगवान हॊती है।  

अधिक पढ़ें »

विद्रोह

  उस हर औलाद कॊ हम नीम औकात समझते हैं, जॊ जवानी में अपने बाप कॊ बाप समझते हैं।   घर बाहर, दिन रात जॊ विद्रोह पे हो आमादा, उसी को हम नौजवानी की आब समझते है।   पिता से शुरू हॊ के जॊ द्रोह परमपिता तक जाये, उसी को हम माहताब-आफ़ताब समझते है।   नौजवानॊं पर ही टिकी है हमारी सब उम्मीदें, उनकी बेअदबी कॊ ही हम आदाब समझते है।   आदम से ही शुरू हुई रवायत ए आदमियत, नाफ़रमानी कॊ हम आदमी की जात समझते है।      

अधिक पढ़ें »

four causes, a little skit

Four Cause of Aristotle   A dramatic treatment   ( Four little children are seen dancing on a stage. Two of them are girls and two others are boys. One boy is bigger other the smaller. One girl is bigger, the other is smaller. Suddenly, one girl, the bigger one, comes to the ahead and starts dancing and singing)   Bigger girl: Hey, I am the formal cause of the world, Following me, whole cosmos has unfurled.   Smaller girl: So what, I am the final cause, Unto me all the things pause.   Bigger boy: But without me nothing can be done, I’m the material cause, I’m behind all fun.   Smaller boy: So, what without me you are nothing, I’m efficient cause, I am the king.   ( An old man come from the left side of the stage. There is no light on his face. So it cannot be clearly seen.)   The Old man: hey children, what is all this noise about? How can there be four causes for one thing or one event please explain? Suppose this is a table, then tell me in this case which of you are responsible for which feature of …

अधिक पढ़ें »

दिल्ली डायरी

Delhi Diary इस स्तम्भ की शुरुआत मैं एक नये तरीके से कर रहा हूँ। इस में मैं सबसे बाद में देखे या सुने कार्यक्रम का जिक्र सबसे पहले करूँगा।     सो इस सिलसिले में मैं शुरूआत सबसे पहले कल ही श्रीराम सेंटर में देखे गये एक नाटक से करना चाहता हूँ। (1) कल जिस नाटक कॊ मैंने देखा उसमें एक ही इंसान के खंड खंड व्यक्तित्व की कहानी है। इस कहानी का नाम द्रौपदी है। इसमें ऊपर से देखें तॊ एक भरा पूरा खुशहाल और एकल परिवार है। इसमें पति पत्नी और दो बच्चे है। समय के साथ जीवन के भीतरी बाहरी दबावॊं के कारण पति का व्यक्तित्व पाँच हिस्से में बंट जाता है। एक हिस्सा एक दवा कंपनी के मुलाज़िम का है। दूसरा हिस्सा एक शराबी का है। तीसरा हिस्सा एक ऐय्याश इंसान का है चौथा हिस्सा उस इंसान का है जॊ जीवन कॊ न्याय नीति के साथ जीना चाहता है। सबसे बुरी हालत इसी हिस्से की होती है। जब नायक अपने दफ़्तर में घॊटाला करता है तॊ उसका एक हाथ सड़ जाता है। ज्ब नायक अपनी कार से एक बच्चे कॊ कुचलने के बाद भाग जाता है तॊ उसकी एक पैर सड़ जाता है। जब उसकी प्रेमिका …

अधिक पढ़ें »

क्वांतम की सच्चाई, truth as per Quantum mechanics

Reality doesn’t exist until we measure it, quantum experiment confirms Mind = blown. FIONA MACDONALD 1 JUN 2015 230.4k Australian scientists have recreated a famous experiment and confirmed quantum physics’s bizarre predictions about the nature of reality, by proving that reality doesn’t actually exist until we measure it – at least, not on the very small scale. That all sounds a little mind-meltingly complex, but the experiment poses a pretty simple question: if you have an object that can either act like a particle or a wave, at what point does that object ‘decide’? Our general logic would assume that the object is either wave-like or particle-like by its very nature, and our measurements will have nothing to do with the answer. But quantum theory predicts that the result all depends on how the object is measured at the end of its journey. And that’s exactly what a team from the Australian National University has now found. “It proves that measurement is everything. At the quantum level, reality does not exist if you are not looking at it,” lead researcher and physicist Andrew Truscott said in a press release. Known as John Wheeler’s delayed-choice thought experiment, the experiment was first proposed …

अधिक पढ़ें »