वार्षिक आर्काइव: 2017

हमारा संविधान

तुम जब भी हमारे संविधान का नाम लेते हॊ, संविधान का एक न एक पन्ना कम हो जाता है। तुम जब भी किताब ए अंबेदकरी कॊ थाम लेते हॊ, किताब ए अंबेदकरी का एक पन्ना बेदम हो जाता है।   तेरे मन वचन कर्म में न जाने कैसा जादू है, तू जिसे शाम कॊ रोके है, सुबह वही बेकाबू है, तुम जब भी ग़रीबी मिटाने कॊ कॊई दाम देते हॊ, कॊई न कॊई गरीब समूह बेचारा खतम हॊ जाता है। तुम जब भी हमारे संविधान का नाम लेते हॊ, संविधान का एक न एक पन्ना कम हो जाता है।   तेरे ज़लवॊं की बात कहूँ तॊ मैं क्या कहूँ सरकार, तेरे आगे आगे जयजयकार, तेरे पीछे है हाहाकार, तुम जब किसानॊं कॊ सलामती का सलाम देते हॊ, माँ भारती के दिल में एक नया ग़म हॊ जाता है। तुम जब भी हमारे संविधान का नाम लेते हॊ, संविधान का एक न एक पन्ना कम हो जाता है।   अरे बेमिसाल हैं तेरे रोज़ाना और मासिक फ़रमान, जिनके कफ़न में लिपट जाते हैं जन गण के अरमान, तुम जब भी उन सब की बेहतरी का पैग़ाम देते हॊ, मादरे हिंद का एक न एक सपना अधम हॊ जाता है। तुम जब …

अधिक पढ़ें »

An Indian chemical plant has figured out how to turn its carbon emissions into baking soda

An Indian chemical plant has figured out how to turn its carbon emissions into baking soda This could solve a lot of problems. PETER DOCKRILL 4 JAN 2017 AddThis Sharing Buttons Share to FacebookShare to TwitterShare to FlipboardShare to Copy Link A chemical plant in India is the first in the world to run a new system for capturing carbon emissions and converting them into baking soda. The Tuticorin Alkali Chemicals plant, in the industrial port city of Tuticorin, is expecting to convert some 60,000 tonnes of CO2 emissions annually into baking soda and other chemicals – and the scientists behind the process say the technique could be used to ultimately capture and transform up to 10 percent of global emissions from coal. While carbon capture technology is not a new thing, what’s remarkable about the Tuticorin installation is that it’s running without subsidies from the government – suggesting the researchers have developed a profitable, practical system that could have the commercial potential to expand to other plants and industries. “I am a businessman. I never thought about saving the planet,” the managing director of the plant, Ramachadran Gopalan, told the BBC. “I needed a reliable stream of CO2, and …

अधिक पढ़ें »

Finland has just launched a world-first universal basic income experiment

Finland has just launched a world-first universal basic income experiment It’s finally happening. DOM GALEON, FUTURISM 3 JAN 2017 AddThis Sharing Buttons Share to FacebookShare to TwitterShare to FlipboardShare to Copy Link It looks like 2,000 citizens in Finland will welcome the new year with outstretched arms. These Finns are the lucky recipients of a guaranteed income beginning this year, as the country’s government finally rolls out its universal basic income (UBI) trial run. UBI is a potential source of income that could one day be available to all adult citizens, regardless of income, wealth, or employment status. This pioneering UBI program was launched by the federal social security institution, Kela. It will give out €560 (US$587) a month, tax free, to 2,000 Finns that were randomly selected. The only requirement was that they had to be already receiving unemployment benefits or an income subsidy. The program allows unemployed Finns to not lose their benefits, even when they try out odd jobs. “Incidental earnings do not reduce the basic income, so working and … self-employment are worthwhile no matter what,” says Marjukka Turunen, legal unit head at Kela. If successful, the program could be extended to include all adult Finns. “Its purpose is to reduce the …

अधिक पढ़ें »

अगहन पूष की रात

अगहन पूष की रात और इधर सड़क पर सोते इंसान। उधर मंदिर मस्ज़िद में मस्ती काटॆं अल्ला ओ भगवान। अगहन पूष की रात औ जन धन से दीन दुखी है लोग, उधर मम्दिर मस्ज़िद में गिर रहे चांदी सोने के जोग, ऐसी भक्ति, ऐसी शक्ति देख कर कविराज भी हैं हैरान। अगहन पूष की रात और इधर सड़क पर सोते इंसान। उधर मंदिर मस्ज़िद में मस्ती काटॆं अल्ला ओ भगवान। अगहन पूष की रात, भूख से मरें आकुल व्याकुल बच्चे, उधर मुल्ले पांडॆ को षटरस व्यंजन, छप्पन भोग सच्चे, ऐसी ही भुक्ति, ऐसी ही मुक्ति देते बाईबिल, वेद, कुरान। अगहन पूष की रात और इधर सड़क पर सोते इंसान। उधर मंदिर मस्ज़िद में मस्ती काटॆं अल्ला ओ भगवान। अगहन पूष की रात में कुड़ा कर्कट जलाते ज़ाहिल जन, उधर अपने घरॊं ऐश करे सर्वज्ञानी खुदा ऒ आनंद घन, ऐसी ही बुद्धि, ऐसी ही शुद्धि देते है परम नवीन विद्वान। अगहन पूष की रात और इधर सड़क पर सोते इंसान। उधर मंदिर मस्ज़िद में मस्ती काटॆं अल्ला ओ भगवान।

अधिक पढ़ें »